Punjabi Poetry
 View Forum
 Create New Topic
 Search in Forums
  Home > Communities > Punjabi Poetry > Forum > messages
komaldeep kaur
komaldeep
Posts: 148
Gender: Female
Joined: 12/Apr/2015
Location: ludhiana
View All Topics by komaldeep
View All Posts by komaldeep
 
यादें

यादें ,यादें अजीब होती हैं
कुछ होती है जादू के खेल सी
पिटारे से निकलती है जादू की छड़ी
पिरोती है गुजरे दिनों की कड़ी
कुछ होती है कड़कड़ाती धुप सी
आ के अक्सर जलाती हैं तपाती हैं
हड्डियों को लावे सा पिघलाती हैं
कुछ होती हैं अंधेरी कोठरी सी
अंदर घुसने के करते कई दांव
झाँक के भागते हैं उलटे पाँव
कुछ होती हैं जुग्नूओ सी
जलती बुझती दमकती हैं
अचानक ही चमकती हैं
कुछ बरखा की फुहार सी
मन के सुने कोने को भरती
देह का सारा ताप हैं हरती।
यादें सही में अजीब होती हैं
फिर भी दिल के करीब होती है
यादें अजीब होती हैं।।।।
कोमलदीप

04 May 2015

navpreet randhawa
navpreet
Posts: 200
Gender: Female
Joined: 19/Feb/2015
Location: calgary
View All Topics by navpreet
View All Posts by navpreet
 
yaadein...very nice komal.
06 May 2015

komaldeep kaur
komaldeep
Posts: 148
Gender: Female
Joined: 12/Apr/2015
Location: ludhiana
View All Topics by komaldeep
View All Posts by komaldeep
 
जग्गी सर ,आपकी नजऱ
यादें ,यादें अजीब होती हैं
कुछ होती हैं जादू के खेल सी
पिटारे से निकलती है जादू की छड़ी
पिरोती है गुजरे दिनों की कड़ी
कुछ होती है कड़कड़ाती धूप सी
आ के अक्सर जलाती हैं तपाती हैं
हड्डियों को लावे सा पिघलाती हैं
कुछ होती हैं अंधेरी कोठरी सी
अंदर घुसने के करते कई दांव
झाँक के भागते हैं उलटे पाँव
कुछ होती हैं जुगनुओं सी -
जलती बुझती दमकती हैं
अचानक ही चमकती हैं
कुछ बरखा की फुहार सी
मन के सूने कोने को भरती
देह का सारा ताप हैं हरती।
यादें सही में अजीब होती हैं
फिर भी दिल के करीब होती हैं
यादें अजीब होती हैं ।

कोमलदीप
08 May 2015

JAGJIT SINGH JAGGI
JAGJIT SINGH
Posts: 1716
Gender: Male
Joined: 03/Jun/2013
Location: Gurgaon
View All Topics by JAGJIT SINGH
View All Posts by JAGJIT SINGH
 

 

कोमल जी, हिंदी भाषा में अत्यंत सुंदर रचना प्रस्तुत की है आपने पंजाबिज़्म फ़ोरम पर |
सिंपली उत्कृष्ट !
एक नमूना है यादों के प्रभाव का -
कुछ होती है कड़कड़ाती धूप सी 
आ के अक्सर जलाती हैं तपाती हैं |
और सुंदरता रंग बिखेरती रोशनी सी देखिए.....
 
कुछ होती हैं जुगनुओं सी -
जलती बुझती दमकती हैं
अचानक ही चमकती हैं |
बहुत सुंदर |

कोमल जी, हिंदी भाषा में अत्यंत सुंदर रचना प्रस्तुत की है आपने पंजाबिज़्म फ़ोरम पर |


सिंपली उत्कृष्ट !


एक नमूना है यादों के प्रभाव का -


कुछ होती है कड़कड़ाती धूप सी 

आ के अक्सर जलाती हैं तपाती हैं |



और सुंदरता रंग बिखेरती रोशनी सी देखिए.....

 

कुछ होती हैं जुगनुओं सी -

जलती बुझती दमकती हैं

अचानक ही चमकती हैं |


बहुत सुंदर |

 

08 May 2015

komaldeep kaur
komaldeep
Posts: 148
Gender: Female
Joined: 12/Apr/2015
Location: ludhiana
View All Topics by komaldeep
View All Posts by komaldeep
 
अति धन्यवाद सर,आपकी एक नजऱ के बिना कविता अधूरी थी।सराहना के लिए बहुत कृतज्ञ हूँ।साभार।
Thaaaanx nav
08 May 2015

sukhpal singh
sukhpal
Posts: 1422
Gender: Male
Joined: 27/Mar/2013
Location: melbourne
View All Topics by sukhpal
View All Posts by sukhpal
 

"Yaadein" A great word for writing emotions and feelings of a human being,......... You express ur words and thoughts so well, its amazing, its a must read poetry for all of us,.i remember the movie "Yaadein" this time that i recently watched,......great 

10 Jun 2023

ਮਾਵੀ ƸӜƷ •♥•.¸¸.•♥•.
ਮਾਵੀ
Posts: 634
Gender: Male
Joined: 30/Mar/2009
Location: Chandigarh
View All Topics by ਮਾਵੀ
View All Posts by ਮਾਵੀ
 

ਅਲਗ ਅਲਗ ਰੰਗਾਂ ਦੀਆਂ ਯਾਦਾਂ ਨੂੰ ਲੜੀ ਵਿੱਚ ਪਰੋ ਕੇ ਬਹੁਤ ਵਧੀਆ ਕਵਿਤਾ ਦੀ ਮਾਲ਼ਾ ਬਣ ਗਈ ਹੈ . ਬਹੁਤ ਸੋਹਣਾ ਲਿਖਿਆ ਕੋਮਲ ਜੀ !

ਚੰਗੀਆਂ ਮੰਦੀਆਂ ਯਾਦਾਂ ਇੱਕ ਜਾਗ ਦੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਹਨ ਜੋ ਜ਼ਿੰਦਗ਼ੀ ਨੂੰ ਲੱਗ ਕੇ ਬਦਲ ਜਾਂਦੀਆਂ ਹਨ . 

13 Jun 2023

Angel Be
Angel
Posts: 15
Gender: Female
Joined: 24/Apr/2024
Location: Texas
View All Topics by Angel
View All Posts by Angel
 

You shared a very nice blog. Keep posting. water heater installers denver

24 Apr 2024

Cathy Rine
Cathy
Posts: 3
Gender: Female
Joined: 12/Apr/2024
Location: New York
View All Topics by Cathy
View All Posts by Cathy
 
Great

 

Very beneficial it seems. This has helped me more than you know. Where else can I see more blogs like this?

Very beneficial it seems. This has helped me more than you know. Where else can I see more blogs like this? Roll off St. George

 

5 days ago

Reply