Anything goes here..
 View Forum
 Create New Topic
 Search in Forums
  Home > Communities > Anything goes here.. > Forum > messages
Lakhbir Singh
Lakhbir
Posts: 91
Gender: Male
Joined: 28/Feb/2012
Location: Jagadhri
View All Topics by Lakhbir
View All Posts by Lakhbir
 
सिंघ गर्जना

बिछी जो घास धरती पर है , बनके खार बोलेगी

गरीबों की जुबाँ बनकर , मेरी किरपान बोलेगी

यह गर्दन कट तो सकती है, मगर यह झुक नहीं सकती,

अभी चमकौर फिर सरहंद की, दीवार बोलेगी

छुपाये छुप नहीं सकते, शहीदों के यह अफ़साने,

अगर सूली न बोली तो लहू की धार बोलेगी

युगों तक रौशनी मिलती रहेगी इन चिरागों से,

की हर लौ अपने परवानो की जैकार बोलेगी

मिलानी  आँख है अब झोंपड़ी को शीश महलों से,

बगावत की यह चिंगारी सरे-दरबार बोलेगी

न होगी पथरों की, होगी पूजा अब भगौती की,

जहाँ भी जुल्म बोलेगा वहीं किरपान बोलेगी

कोई रोंदे नहीं इंसानियत को अपने पावों में,

की गैरत आदमी की बनके पहरेदार बोलेगी

जहाँ रख दूं कदम अपना वहीं होगी हर इक मंजिल,

मेरे हर कदम की गर्मी-ऐ-रफ्तार बोलेगी

तुम्हारे पांव की बेडी जुबाँ बन जाएगी ‘पंछी’

रहोगी तुम अगर खामोश तो झंकार बोलेगी

 

-       स. करनैल सिंघ (सरदार पंछी)

26 Mar 2015

Reply